Posts By :

admin

261 261 admin

जीवन में खुशी कैसे अर्जित करें

जीवन में खुशी कैसे अर्जित करें कहते हैं कि सम्राट सिकंदर जब विश्व विजय अभियान में निकला तो उसकी मुलाकात किसी संत से हुई। बातचीत के क्रम में संत ने…

read more
261 261 admin

मोबाइल का सही प्रयोग

मोबाइल का सही प्रयोग आज 21वीं सदी के युग में मोबाइल फोन सबसे उपयोगी और जरूरी वस्तु हो गई है। आज के समय में हर दूसरे व्यक्ति के पास मोबाइल…

read more
150 150 admin

64 मंडलीय सिद्धचक्र विधान

●◆●◆▬▬ஜ۩ प्रामाणिक ۩ஜ▬▬●◆●◆ फाल्गुन सुदी अष्टमी से फाल्गुन सुदी पूर्णिमा तक अष्टान्हिका महापर्व में 64 मंडलीय सिद्धचक्र विधान का भव्य आयोजन पूज्य मुनि श्री प्रमाणसागर और विराट सागर जी के…

read more
261 261 admin

जीवन बने आनंद सरोवर

कहते हैं कि सम्राट सिकंदर जब विश्व विजय अभियान में निकला तो उसकी मुलाकात किसी संत से हुई। बातचीत के क्रम में संत ने पूछा- तुम्हारा कार्यक्रम क्या है? सिकंदर…

read more
261 261 admin

मनः पूतं समाचरेत

दर्पण में आप अपना प्रतिबिंब देखते हैं। कब देख पाते हैं? जब दर्पण साफ और स्वच्छ हो। यदि दर्पण में कोई दाग धब्बे हो तो उसमें उभरने वाला प्रतिबिंब भी…

read more
261 261 admin

सरस जीवन की कला

सरस जीवन की कला किसी व्यक्ति की तस्वीर बहुत सुंदर हो और एक्स-रे खराब हो तो उसे क्या कहेंगे? निश्चित वह व्यक्ति चिंता में पड़ेगा। आज दुनिया के लोगों पर…

read more
261 261 admin

पत्थर अहम् का गलता नहीं

पत्थर अहम् का गलता नहीं मैंने देखा, एक अंगीठी सुलग रही थी। लाल-लाल अंगारे दमक रहे थे। बड़ी तेज कांति और आभा थी उसमें। तभी एक अंगारे के मन में…

read more
261 261 admin

भय का भूत हवा-हवाई

भय का भूत हवा-हवाई हमारे दुख के कारणों में एक महत्वपूर्ण कारण है- भय। भय, व्याकुलता, डर यह एक दूसरे के पर्यायवाची शब्द हैं। जब भी हमारे मन में किसी…

read more
261 261 admin

नज़र, नज़रिया और नज़ारे

नज़र, नज़रिया और नज़ारे नदी की तेज धार बह रही थी। उस धार में दो तिनके थे। पहला तिनका धार को रोकने का प्रयास कर रहा था उससे जूझ रहा…

read more
261 261 admin

उन्नत मानसः उन्नत जीवन

उन्नत मानसः उन्नत जीवन शांतम तुष्टम पवित्रं च सानंदनम इति तत्वतः। जीवनम् जीवनम् प्राहो भारतीय सुसंस्कृतम्।। कल जिस कारिका से मैंने अपनी बात की शुरुआत की थी। भारतीय संस्कृति में…

read more