माँ
261 261 admin

माँ का किरदार- वैसे तो एक महिला अपने पूरे जीवन काल में कईं किरदार निभाती है, परन्तु एक औरत के रूप में माँ का किरदार बहुत ही बड़ा और ख़ास है। ‘माँ’ भले ही एक अक्षर का शब्द हो पर इसका मतलब उतना ही गहरा है। माँ हमारी जन्मदाता है जो पता नहीं कितने ही…

बॉडी लैंग्वेज का व्यक्तित्व पर प्रभाव
261 261 admin

बॉडी लैंग्वेज vs भाषा भाषा की अपनी भूमिका है लेकिन भाषा भी अपना अर्थ बदल देती है यदि बॉडी लैंग्वेज ठीक नहीं हो। जो हम मुँह से बोलते हैं, वह मुँह की भाषा होती है, पर जो हम शरीर से बोलते हैं वह हमारे हृदय की भाषा होती है। जब तक हमारी बॉडी लैंग्वेज किसी…

वास्तु का जीवन में प्रभाव
261 261 admin

क्या है वास्तु? वास्तु एक वैज्ञानिक सिद्धांत है। चुंबकीय तरंगों के प्रवाह से पूरा वातावरण प्रभावित होता है और उनका प्रवाह अपने हिसाब से होता है। हम अपना घर आदि कुछ भी बनाते हैं, यदि उसको ध्यान में रखते हैं, तो वो प्रवाह ठीक बना रहता है जिससे हमारे ऊपर उसका सही असर होता है;…

अंधकार और रोशनी का महत्व
261 261 admin

जीवन के दो पक्ष- प्रकाश और अंधकार प्रकाश और अंधकार दोनों का अस्तित्व एक दूसरे से है- प्रकाश है तो अंधेरा नहीं और अंधेरा है तो प्रकाश नहीं। कहीं उजाला है तो उसकी चमक के साथ पीछे छिपा हुआ अंधेरा भी है क्योंकि वो ही उजाले का अस्तित्व है। परछाई एक स्वाभाविक घटना है जो…

गुरु का स्वरूप
261 261 admin

विषयाशावशातीतो निरारम्भोऽपरिग्रहः । ज्ञान-ध्यान-तपोरक्तस्तपस्वी स प्रशस्यते॥ अर्थात जो व्यक्ति विषय और उसकी आसक्ति से रहित है; आरम्भ और परिग्रह से रहित है; ज्ञान,ध्यान और तप में लीन है, वही गुरु है। कौन होते हैं गुरु? ‘गुरु’ शब्द चार वर्णों (ग + उ + र + उ ) से मिलकर बना है | गुरु वह है…

जीवन में क्या सही-‘ढंग’ या ‘ढोंग’
261 261 admin

‘ढंग’ का जीवन में महत्त्व- धर्म हमें ‘ढंग’ से जीवन जीने की व इस संसार सागर से पार उतरने की कला सिखाता है | ‘ढंग’ से हम अपने जीवन को इह लोक में व्यवस्थित, मर्यादित, सात्विक, अहिंसक एवं शांतिमय तरीके से जी सकते हैं और अपने जीवन के यथार्थ रस का आनंद ले सकते हैं…

जैन धर्म
261 261 admin

क्या है जैन धर्म ? जैन धर्म कठिनता और कठोरता से परे एक वैज्ञानिक धर्म है जो हमें संतुलित जीवन जीने की शैली बताता है। जैन धर्म ऐसा धर्म है जो हमें स्वार्थी और आक्रामक होने से बचाता है और शांत, संयत तथा संतुलित जीवन जीने की प्रेरणा देता है। जैन धर्म हिंसा, झूठ, चोरी,…

विचारों का महत्व
261 261 admin

जीवन में विचारों का महत्व हमारा जीवन हमारे विचारों से प्रभावित होता है। चारों तरफ के वातावरण से प्रभावित होकर हम अच्छा या बुरा जैसा सोचते हैं, जीवन भी वैसा ही बन जाता है। सदा प्रसन्नचित्त और आशावादी दृष्टिकोण कैसी भी परिस्थितियाँ आने पर उसे रचनात्मक सोच से देखने की दिशा देता है, आत्मविश्वास को…

अकाल मरण का रहस्य
261 261 admin

क्या है अकाल मरण ? कोई भी जीव जो करोड़ों वर्षो तक जीने की योग्यता रखता है वो भी एक अन्तर्मुहूर्त में मरण को प्राप्त हो सकता है। परंतु जब कोई जीव जहर खाकर, ऊंची इमारत से कूदकर, दुर्घटना से या अन्य किसी भी कारण से असमय मरण को प्राप्त हो जाता है तो उसे…

णमोकार मन्त्र महामन्त्र
261 261 admin

णमोकार मन्त्र एक मूल मन्त्र है। वैसे तो हर मन्त्र महत्वपूर्ण होते हैं पर सब मन्त्रों में णमोकार मन्त्र को मंत्राधिराज कहा जाता है । वैसे तो इस मन्त्र की अनेक विशेषताएं हैं पर इसकी कुछ उल्लेखनीय विशेषताएं हैं जो णमोकार महामन्त्र को अन्य मन्त्रों से अलग स्थान प्रदान करती हैं। णमोकार मन्त्र की विशेषताएं:…

टाइम मैनेजमेंट
261 261 admin

समय का सही उपयोग कैसे करें? बहुत से ऐसे लोग हैं जो अपने कार्यों को पूरा करने के लिए दिन भर मेहनत करते हैं परन्तु तब भी उनके कार्य अधूरे रह जाते हैं। और जब उनसे इसके पीछे का कारण पूछा जाता है तो उत्तर मिलता है कि “समय कम मिल पाता है”। वहीँ दूसरी…

मानसिक अशांति
261 261 admin

मानसिक अशांति क्या है? उपभोक्तावाद के इस युग में अनेक प्रकार की कृत्रिमताऐं हमारे मनोभाव, सोच, और व्यवहार को प्रभावित करती हैं। कुछ हमें हरपल अपने भविष्य के बारे में सोचने को विवश करती हैं। सभी सुख सुविधाओं, ऐश, आराम तथा शांति का साधन होने पर भी चिंता, बेचैनी या डर से किसी भी काम…