उत्तम त्याग धर्म (Supreme Renunciation)

261 261 admin

*जोड़ना संग्रह है और जोड़कर उससे चिपक जाना परिग्रह है।

*धन का संग्रह करना भी समाज के कल्याण के लिए बाँध का निर्माण करने के समान है। इसलिए धन का संग्रह करो, पर बाँध की भाँति करो।

*जहाँ केवल संग्रह है वहाँ खारापन है और जहाँ वितरण है वहाँ मिठास है।

*भाग्यलक्ष्मी के साथ पुण्यलक्ष्मी को बढ़ाना है, पापलक्ष्मी के रास्ते पर कतई नहीं जाना है और अभिशप्तलक्ष्मी के अधिकारी तो कभी बनना ही नहीं है।

*परिग्रह का संचय करके विग्रह में उलझकर अपने जीवन को बर्बादी के कगार पर नहीं पहुचना है।

*संग्रह करो, साथ में अपने भीतर उदारता और अनुग्रह का समावेश भी करो।

Compiled by Vidhu Jain, Noida

Leave a Reply