रस परित्याग तप, विविक्त शय्यासन तप तथा कायक्लेश तप

150 150 admin

जैन तत्त्वविद्या | रस परित्याग तप, विविक्त शय्यासन तप तथा कायक्लेश तप

Leave a Reply