क्या बोली की राशि से विधान पूजन किया जा सकता है?

150 150 admin

शंका

मन्दिर में जो बोली ली जाती है, उसी से हम विधान-पूजन की सामग्री चढ़ा देते हैं। तो इस तरह चढ़ानी चाहिए या नहीं?

विडियो

समाधान

मन्दिर में आपने जो बोली ली है, यदि विधान पूजन के लिए ली है, तो उस राशि से विधान पूजन में कोई दोष नहीं है। बोली किसी अन्य मकसद से ली और आप विधान पूजन में बैठ गये और आपने कुछ नहीं दिया, तो आप के पुण्य को वह क्षीण करेगा। इसलिये, बोली यदि ली है, तो पूजन में अलग से देने की आवश्यकता नहीं; पर बिना बोली के आप बैठे हैं, तो आप को कुछ न कुछ देना ही चाहिए। पर मेरी भावना तो यह भी है कि भले आप बोली लेकर के भी विधान पूजन में बैठो, फिर भी कोशिश करो कि “बोली तो मैंने दान स्वरूप ली है, इस विधान में जितना द्रव्य मैं चढ़ा रहा हूँ, कम से कम उसमें मेरा भी कुछ द्रव्य लग जाए” यह विशिष्ट पुण्य का कारण है।

Edited by: Pramanik Samooh

Leave a Reply