Dashlakshan

261 261 admin

उत्तम ब्रह्मचर्य

उत्तम ब्रह्मचर्य   आज बात ‘ब्रह्मचर्य धर्म’ की हैं। ब्रह्मचर्य जो हमारी साधना का मूल हैं, सभी साधनाओं में ब्रह्मचर्य को सबसे प्रमुख स्थान दिया गया हैं। एक तरफ ब्रह्मचर्य हैं…

read more
261 261 admin

उत्तम आकिंचन्य

उत्तम आकिंचन   पिता की मृत्यु के उपरांत पिता की संपत्ति को लेकर चार भाइयों के मध्य अंतर-मंथन चल रहा था। एक प्रकार का द्वन्द चल रहा था, एक कह रहा…

read more
261 261 admin

उत्तम त्याग

उत्तम त्याग  आज बात ‘त्याग’ की हैं और त्याग के दो रूप हैं एक सर्वस्व और दूसरा अंश। जो सर्वस्व को त्यागता हैं, वह साधु होता हैं, साधुता हमारे भीतर…

read more
261 261 admin

उत्तम तप

उत्तम तप  पानी मिट्टी को गला देता हैं, बहा देता हैं लेकिन वही मिट्टी जब मंगल कलश के रूप में परिवर्तित हो जाती हैं, आंच में पककर के घड़े का…

read more
261 261 admin

 उत्तम संयम

 उत्तम संयम   आज बात ‘संयम’ की हैं, जब कभी भी संयम की बात आती हैं, संयमी व्यक्ति की बात आती हैं, हमारे सामने एक ऐसे व्यक्ति की छवि झूलने लगती…

read more