नये देश की परिकल्पना
261 261 admin

नये देश की परिकल्पना आज का दिन आप सबके लिए आजादी का दिन है। आज सुबह से ही सबके मन में एक अलग प्रकार का जोश और जुनून है। इस…

कैसी हो निष्ठा?
261 261 admin

कैसी हो निष्ठा? शिष्य ने गुरु से पूछा-गुरुदेव! मेरी धर्म में प्रगाढ़ आस्था है, फिर भी मैं धर्मानुकूल जीवन क्यों नहीं जी पाता? धर्म में प्रगाढ़ आस्था है, लेकिन इसके…

अपनी योग्यता को कैसे संवारे
261 261 admin

अपनी योग्यता को कैसे संवारे नदी के किनारे, एक पत्थर लगा। सैलानी उस पर बैठकर नदी की धार के साथ अठखेलियाँ खेलते, तो कभी धोबी उसी पत्थर पर कपडा फींचा…

क्यों डरें पाप करने से?
261 261 admin

क्यों डरें पाप करने से? एक व्यक्ति ने अपने घर के आंगन में बबूल का पेड़ बोया, रात-दिन वह उसे सींचता, खाद-पानी देता, चौबीस घंटे उसमें रमा रहता। उसकी इस…

कैसे करें पुण्य की कमाई?
261 261 admin

कैसे करें पुण्य की कमाई? कल पाप की बात की गई। सुदर्शन जी ने मुझसे कहा- महाराज! पुण्य की भी बात कर लो तो बात पूरी होगी नहीं तो बात…

कैसी हो रुचि?
261 261 admin

कैसी हो रुचि? आज बात ‘र’ की है। ‘क’ से ‘य ‘तक आपने काफी रस लिया और मैं देख रहा हूँ कि आप सबने बड़ी रुचि पूर्वक सुना। आज मैं…

ललक अपने में लीन होने की
261 261 admin

ललक अपने में लीन होने की शिष्य ने गुरु से पूछा कि इतना धर्म सुनने के बाद भी धर्म के प्रति हमारा लगाव क्यों नहीं बन पाता? गुरु ने उत्तर…

ऐसा विज्ञान जो पल में दुःख को भगा दे
261 261 admin

ऐसा विज्ञान जो पल में दुःख को भगा दे एक बार एक युवक ने सवाल किया कि क्या धर्म हमारी समस्याओं का समाधान कर सकता है? क्या धर्म हमारी समस्याओं…

जीवन का आधा पतन – व्यसन
261 261 admin

जीवन का आधा पतन – व्यसन धरती पर अगर चंदन का पेड़ उगाना हो तो वर्षों लग जाते हैं और बेशर्म का पौधा उगाने में कुछ भी श्रम नहीं लगता।…

बचें शक के जंजाल से
261 261 admin

बचें शक के जंजाल से आज बात ‘श’ की है और ‘श’ शिक्षक का हैं। आज वैसे शिक्षक दिवस भी हैं, पहले मैंने सोचा कि शिक्षा की बात करूँ पर…

क्या जरूरत है षड्यन्त्र रचने की?
261 261 admin

क्या जरूरत है षड्यन्त्र रचने की? एक दिन एक सज्जन बहुत मेरे पास आए वे बहुत घबराए हुए थे। उन्होंने कहा- महाराज! मुझे एक पहचान वाले व्यक्ति ने कहा है…

संयम संतोष से जीवन बदलें
261 261 admin

संयम संतोष से जीवन बदलें भगवान के दरबार में एक सेठ गया। बहुमूल्य रत्न अर्पित करते हुए उसके भगवान से कहा, है भगवन! वर्षों से मैं तेरी पूजा-अर्चना करता आ…

Facebook
YouTube
Instagram
GOOGLE