img
दिनांक: 2017-12-10 09:46:43; वर्तमान स्थान: शिशवी [https://goo.gl/maps/AjftMrANar52]; आहार चर्या: शिशवी; शंका समाधान कार्यक्रम: शिशवी;
मुनि श्री प्रमाण सागर जी महाराज एवं मुनि श्री विराट सागर जी महाराज ससंघ श्री दिगम्बर जैन मंदिर, सकरोदा, उदयपुर (राजस्थान) में विराजमान हैं.
संत शिरोमणी आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज - संयम स्वर्ण महोत्सव: गुणायतन की अनूठी पहल
गुणायतन परिवार वनाएगा देश भर में 108 कीर्ति स्तंभ, गुणायतन परिसर में वनेगा 108 फीट ऊँचा भव्य कीर्ति स्तंभ जिसमें होंगे 1008 जिनबिम्ब और गुणायतन परिसर के सम्मुख मधुवन मुख्य मार्ग पर होगा 51 फीट ऊँचा "आचार्य श्री विद्यासागर द्वार"...
..........अधिक जानने के लिए क्लिक करें...
वर्तमान स्थान
Presnt Place
गुणायतन
Gunayatan
संघस्थ
Sanghastha
संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के प्रमुख शिष्य, झारखंड प्रान्त के हजारीबाग शहर में जन्मे मुनि श्री प्रमाणसागर जी महाराज के किसी परिचय की आज आवश्यकता नहीं।....और अधिक
मुनि श्री प्रमाण सागर जी महाराज एवं मुनि श्री विराट सागर जी महाराज ससंघ श्री दिगम्बर जैन मंदिर, सकरोदा, उदयपुर (राजस्थान) में विराजमान हैं. 
वर्तमान स्थान
गुणस्थान जीव के भावों को मापने का पैमाना है. परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के मंगल आशीर्वाद एवं परम पूज्य मुनि श्री प्रमाणसागर जी महाराज की मंगल प्रेरणा से मधुबन, सम्मेदशिखरजी में निर्मित होने जा रहे, धर्मायतन "गुणायतन" में चौदह गुणस्थानों को "दृष्य-श्राव्य-रोबोटिक्स प्रस्तुति" के माध्यम से दर्शनार्थियों को समझाया जायेगा. अधिक जानने के लिये क्लिक करें.
गुणायतन

Photo Gallary
मुनि श्री विराट सागर जी
img
मुनिश्री के मुखारविन्द से निश्रित जिन देशना .... सुनने/ डाउनलोड करने के लिये क्लिक करें.
जिनधर्म एवं जीवन व्यवहार से जुड़ी जिज्ञासाओं का समुचित समाधान:
शंका समाधान
ऑन-लाइन प्रश्न पूछने हेतू क्लिक करें.
आगम के गूढ़तम ज्ञाता, जिणवाणी के प्रखर प्रस्तोता, हिन्दी, संस्कृत, प्राकृत एवं अंग्रेजी के अधिकारी विद्वान मुनिश्री की लेखनी से जैन आगम के गूढ़ तत्त्वों की सहज-सरल-सुबोध प्रस्तुति अनेक कृतियों के माध्यम से निरंतर हो रही है। कृतियाँ डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें
तीर्थराज श्री सम्मेद शिखरजी में सर्वांगीण विकास का सम्यक् यतन
श्री सेवायतन .. अधिक जानने के लिये क्लिक करें.
श्री सेवायतन
ShriSevaytan
contact@munipramansagar.net
Hits Count -->
Updated 1-12-2017