वर्तमान काल में सोलह कारण भावना का क्या महत्त्व?

150 150 admin

शंका

सोलह कारण भावना में तीर्थंकर प्रकृति का बंध होता है लेकिन इस काल में तीर्थंकर प्रकृति का बंध नहीं है तो वर्तमान में इसका क्या उपयोग है?

विडियो

समाधान

सोलह कारण भावना भाने से तीर्थंकर प्रकृति का बंध भले ना हो पर सोलह कारण भावना भाने से एक युग में जीव तीर्थंकर प्रकृति का बंध करके भगवान बन जाता है। आज के युग में तीर्थंकर प्रकृति का बंध नहीं होता तो मैं आपसे यह कहता हूँ चौथे काल में सोलह करण की भावना भाने वाले तीर्थंकर बन कर भगवान बनते थे और पंचम काल में सोलह कारण भावना भाने वाले भगवान बने या ना बने पर भाग्यवान बन जाते है।

Edited by: Pramanik Samooh

Leave a Reply