सल्लेखना की प्रति इतना हंगामा क्यों?

150 150 admin

शंका

वर्तमान में जैन धर्म के इतने मंडल विधान, इतनी वेदी प्रतिष्ठा एवं बहुत धर्म प्रभावना हो रही है। इसके बावजूद संसार में सल्लेखना को लेकर, धर्म के प्रति प्रलय और इतना उत्सर्ग क्यों हो रहा है?

विडियो

समाधान

पूजा विधान आदि का होना इस बात का द्योतक है कि लोगों के अंदर की धार्मिकता, धर्म निष्ठा बढ़ रही है। जब धर्म निष्ठा बढ़ रही है, तो सल्लेखना, संथारा जैसी प्रमुख साधना के प्रति भी लोगों का रुझान बढ़ा है; और ऐसी साधना के प्रति लोगों का रुझान बढ़ा तो लोगों का ध्यान भी उस पर बढ़ा है, उसमें गढ़ा है। 

जब लोगों का ध्यान उस पर जुड़ा तो कई किसी व्यक्ति को समझ में नहीं आया तो इस तरह के मुद्दे उछल गये। यह तो होता ही है, लेकिन घबराने की बात नहीं है, इतना पूजा विधान और जाप करो कि जो कुछ भी व्यवधान है सब जल्दी से जल्दी ठीक हो जाए और सारी दुनिया का मार्ग प्रशस्त हो जाये।

Edited by: Pramanik Samooh

Leave a Reply